मैं कभी-कभार ही अपनी कमियों के बारे में सोचती हूँ, और वो मुझे कभी दुखी नहीं करते. शायद एक-आध बार थोड़ी पीड़ा होती है; पर वह फूलों के बीच में हवा के झोंके के सामान अस्पष्ट है. || I seldom think about my limitations, and they never make me sad. Perhaps there is just a touch of yearning at times; but it is vague, like a breeze among flowers. – Helen Keller

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *