समाज व्यक्तियों से नहीं बना होता है बल्कि खुद को अंतर संबंधों के योग के रूप में दर्शाता है, वो सम्बन्ध जिनके बीच में व्यक्ति खड़ा होता है . || Society does not consist of individuals but expresses the sum of interrelations, the relations within which these individuals stand. – Karl Marx

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *