किसी ऐसे से प्रेम करना जिसे तुम चाहते हो नगण्य है किसी से इसलिए प्रेम करना क्योंकि वो तुमसे प्रेम करता है महत्त्वहीन है .किसी ऐसे से प्रेम करना जिसे तुम नहीं चाहते , मतलब तुमने जीवन का एक सबक सीख लिया है .किसी ऐसे से प्रेम करना जो बिना वजह तुम पर दोष मढ़े; दर्शाता है कि तुमने जीने की कला सीख ली है . || To love someone whom you like is insignificant.To love someone because they love you is of no consequence.To love someone whom you do not like means you have learned a lesson in life.To love someone who blames you for no reason shows that you have learned the art of living. – Sri Sri Ravi Shankar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *