एकता के बिना जनशक्ति शक्ति नहीं है जबतक उसे ठीक तरह से सामंजस्य में ना लाया जाए और एकजुट ना किया जाए, और तब यह आध्यात्मिक शक्ति बन जाती है. || Manpower without Unity is not a strength unless it is harmonised and united properly, then it becomes a spiritual power. – Vallabhbhai Patel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *