जैसे शरारती बच्चों के लिए मक्खियाँ होती हैं,वैसे ही देवताओं के लिए हम होते हैं; वो अपने मनोरंजन के लिए हमें मारते हैं. || As flies to wanton boys, are we to the gods; they kill us for their sport. – William Shakespeare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *