इर्ष्या और नफरत की आग में जलते हुए इस संसार में खुशी और हंसी कैसे स्थाई हो सकती है? अगर आप अँधेरे में डूबे हुए हैं तो आप रौशनी की तलाश क्यों नहीं करते| || How is there laughter, how is there joy, as this world is always burning? Why do you not seek a light, ye who are surrounded by darkness? – Gautam Buddha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *