जिस तरह से लापरवाह रहने पर, घास जैसी नरम चीज की धार भी हाथ को घायल कर सकती है, उसी तरह से धर्म के असली स्वरूप को पहचानने में हुई गलती आपको नरक के दरवाजे पर पहुंचा सकती है| || In the same way that a wrongly handled blade of grass will cut one’s hand, so a badly fulfilled life in religion will drag one down to hell. – Gautam Buddha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *