कभी-कभार, claas छोड़ कर दोस्तों के साथ वक़्त गुजारना भी अच्छा होता है, क्योंकि अब, जबकि मैं वापस पलट कर देखता हूँ, तो marks कभी मुझे हंसा नहीं पाते जबकि यादें मेरे चहरे पर मुस्कान ला देती हैं| || Sometimes, it’s better to bunk a class and enjoy with friends, because now, when I look back, marks never make me laugh, but memories do. – A.P.J. Abdul Kalam

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *