सदीयो से जागी आँखो को,
एक बार सुलाने आ जाओ,
माना की तुमको प्यार नहीं,
नफरत ही जताने आ जाऔ

जिस मोङ पे हमको छोङ गये,
हम बैठे अब तक सोच रहे
क्या भुल हुई क्यो जुदा हुए,
बस यह समझाने आ जाओ!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *