कर्तव्य कभी आग और पानी की परवाह नहीं करता. कर्तव्य-पालन में ही चित्त की शांति है. – प्रेमचंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *