जीवन का वास्तविक सुख, दूसरों को सुख देने में हैं, उनका सुख लूटने में नहीं. – प्रेमचंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *