जब हम अपनी भूल पर लज्जित होते हैं, तो यथार्थ बात अपने आप ही मुंह से निकल पड़ती है. – प्रेमचंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *