अपनी भूल अपने ही हाथ सुधर जाए तो यह उससे कहीं अच्छा है कि दूसरा उसे सुधारे. – प्रेमचंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *