चिंता एक काली दीवार की भांति चारों ओर से घेर लेती है, जिसमें से निकलने की फिर कोई गली नहीं सूझती. – प्रेमचंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *