अमीरी की कब्र पर पनपी हुई गरीबी बड़ी जहरीली होती है – प्रेमचंद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *