Archives

Categories

अधिक से अधिक भोले, कम ज्ञानी और बच्चों की तरह बनिए. जीवन को मजे के रूप में लीजिये – क्योंकि वास्तविकता में यही जीवन है. – ओशो || Become more and more innocent, less knowledgeable and more childlike. Take life Read more ›

जीवन कोई त्रासदी नहीं है; ये एक हास्य है. जीवित रहने का मतलब है हास्य का बोध होना. – ओशो || Life is not a tragedy, it is a comedy. To be alive means to have a sense of humor. Read more ›

प्रसन्नता सद्भाव की छाया है; वो सद्भाव का पीछा करती है. प्रसन्न रहने का कोई और तरीका नहीं है. – ओशो || Happiness is a shadow of harmony; it follows harmony. There is no other way to be happy. – Read more ›

जेन लोग बुद्ध को इतना प्रेम करते हैं कि वो उनका मज़ाक भी उड़ा सकते हैं. ये अथाह प्रेम कि वजह से है; उनमे डर नहीं है. – ओशो || Zen people love Buddha so tremendously that they can even Read more ›

जब मैं कहता हूँ कि आप देवी-देवता हैं तो मेरा मतलब होता है कि आप में अनंत संभावनाएं है , आपकी क्षमताएं अनंत हैं. – ओशो || When I say that you are gods and goddesses I mean that your Read more ›

अर्थ मनुष्य द्वारा बनाये गए हैं . और चूँकि आप लगातार अर्थ जानने में लगे रहते हैं , इसलिए आप अर्थहीन महसूस करने लगते हैं. – ओशो || Meaning is man-created. And because you constantly look for meaning, you start Read more ›

जेन एकमात्र धर्म है जो एकाएक आत्मज्ञान सीखता है. इसका कहना है कि आत्मज्ञान में समय नह लगता, ये बस कुछ ही क्षणों में हो सकता है. – ओशो || Zen is the only religion in the world that teaches Read more ›

आत्मज्ञान एक समझ है कि यही सबकुछ है, यही बिलकुल सही है , बस यही है. आत्मज्ञान कोई उप्लाब्धि नही है, यह ये जानना है कि ना कुछ पाना है और ना कहीं जाना है. – ओशो || Enlightenment is Read more ›

जिस दिन आप ने सोच लिया कि आपने ज्ञान पा लिया है, आपकी मृत्यु हो जाती है- क्योंकि अब ना कोई आश्चर्य होगा, ना कोई आनंद और ना कोई अचरज. अब आप एक मृत जीवन जियेंगे. – ओशो || The Read more ›

यदि आप एक दर्पण बन सकते हैं तो आप एक ध्यानी बन सकते हैं. ध्यान दर्पण में देखने की कला है. और अब, आपके अन्दर कोई विचार नहीं चलता इसलिए कोई व्याकुलता नहीं होती. – ओशो || If you can Read more ›

कोई प्रबुद्ध कैसे बन सकता है? बन सकता है, क्योंकि वो प्रबुद्ध होता है- उसे बस इस तथ्य को पहचानना होता है. – ओशो || How can one become enlightened? One can, because one is enlightened – one just has Read more ›

मित्रता शुद्धतम प्रेम है. ये प्रेम का सर्वोच्च रूप है जहाँ कुछ भी नहीं माँगा जाता , कोई शर्त नहीं होती , जहां बस देने में आनंद आता है. – ओशो || Friendship is the purest love. It is the Read more ›

सवाल ये नहीं है कि कितना सीखा जा सकता है…इसके उलट , सवाल ये है कि कितना भुलाया जा सकता है. – ओशो || It’s not a question of learning much… On the contrary. It’s a question of unlearning much. Read more ›

आप जितने लोगों को चाहें उतने लोगों को प्रेम कर सकते हैं- इसका ये मतलब नहीं है कि आप एक दिन दिवालिया हो जायेंगे, और कहेंगे,” अब मेरे पास प्रेम नहीं है”. जहाँ तक प्रेम का सवाल है आप दिवालिया Read more ›

किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा की आवश्यकता नहीं है. आप स्वयं में जैसे हैं एकदम सही हैं. खुद को स्वीकारिये. – ओशो || There is no need of any competition with anybody. You are yourself, and as you Read more ›

उस तरह मत चलिए जिस तरह डर आपको चलाये. उस तरह चलिए जिस तरह प्रेम आपको चलाये. उस तरह चलिए जिस तरह ख़ुशी आपको चलाये. – ओशो || Don’t move the way fear makes you move.Move the way love makes Read more ›

जब प्यार और नफरत दोनों ही ना हो तो हर चीज साफ़ और स्पष्ट हो जाती है. – ओशो || When love and hate are both absent everything becomes clear and undisguised. – Osho

यहाँ कोई भी आपका सपना पूरा करने के लिए नहीं है. हर कोई अपनी तकदीर और अपनी हक़ीकत बनाने में लगा है. – ओशो || Nobody is here to fulfill your dream. Everybody is here to fulfill his own destiny, Read more ›

केवल वो लोग जो कुछ भी नहीं बनने के लिए तैयार हैं प्रेम कर सकते हैं. – ओशो || Only those who are ready to become nobodies are able to love. – Osho

उत्कृष्टता वो कला है जो प्रशिक्षण और आदत से आती है.हम इस लिए सही कार्य नहीं करते कि हमारे अन्दर अच्छाई या उत्कृष्टता है , बल्कि वो हमारे अन्दर इसलिए हैं क्योंकि हमने सही कार्य किया है.हम वो हैं जो Read more ›

चरित्र को हम अपनी बात मनवाने का सबसे प्रभावी माध्यम कह सकते हैं. – अरस्तु || Character may almost be called the most effective means of persuasion. – Aristotle

जो सभी का मित्र होता है वो किसी का मित्र नहीं होता है. – अरस्तु || A friend to all is a friend to none. – Aristotle

संकोच युवाओं के लिए एक आभूषण है, लेकिन बड़ी उम्र के लोगों के लिए धिक्कार. – अरस्तु || Bashfulness is an ornament to youth, but a reproach to old age. – Aristotle

मनुष्य अपनी सबसे अछ्छे रूप में सभी जीवों में सबसे उदार होता है, लेकिन यदि क़ानून और न्याय ना हों तो वो सबसे खराब बन जाता है. – अरस्तु || At his best, man is the noblest of all animals; Read more ›

कोई भी क्रोधित हो सकता है- यह आसान है, लेकिन सही व्यक्ति से सही सीमा में सही समय पर और सही उद्देश्य के साथ सही तरीके से क्रोधित होना सभी के बस कि बात नहीं है और यह आसान नहीं Read more ›

मनुष्य के सभी कार्य इन सातों में से किसी एक या अधिक वजहों से होते हैं: मौका, प्रकृति, मजबूरी , आदत, कारण, जुनून, इच्छा – अरस्तु || All human actions have one or more of these seven causes: chance, nature, Read more ›

डर बुराई की अपेक्षा से उत्पन्न होने वाले दर्द है. – अरस्तु || Fear is pain arising from the anticipation of evil. – Aristotle

दो चीजें अनंत हैं: ब्रह्माण्ड और मनुष्य कि मूर्खता; और मैं ब्रह्माण्ड के बारे में दृढ़ता से नहीं कह सकता. – अल्बर्ट आइंस्टीन || Two things are infinite: the universe and human stupidity; and I’m not sure about the universe. Read more ›

जब आप एक अच्छी लड़की के साथ बैठे हों तो एक घंटा एक सेकंड के सामान लगता है.जब आप धधकते अंगारे पर बैठे हों तो एक सेकंड एक घंटे के सामान लगता है. यही सापेक्षता है – अल्बर्ट आइंस्टीन || Read more ›

कोई भी समस्या चेतना के उसी स्तर पर रह कर नहीं हल की जा सकती है जिसपर वह उत्पन्न हुई है. – अल्बर्ट आइंस्टीन || No problem can be solved from the same level of consciousness that created it. – Read more ›

इश्वर के सामने हम सभी एक बराबर ही बुद्धिमान हैं-और एक बराबर ही मूर्ख भी. – अल्बर्ट आइंस्टीन || Before God we are all equally wise – and equally foolish. – Albert Einstein

जो छोटी-छोटी बातों में सच को गंभीरता से नहीं लेता है , उस पर बड़े मसलों में भी भरोसा नहीं किया जा सकता. – अल्बर्ट आइंस्टीन || Anyone who doesn’t take truth seriously in small matters cannot be trusted in Read more ›

यदि मानव जातो को जीवित रखना है तो हमें बिलकुल नयी सोच की आवश्यकता होगी. – अल्बर्ट आइंस्टीन || We shall require a substantially new manner of thinking if mankind is to survive. – Albert Einstein

इन्सान को यह देखना चाहिए कि क्या है, यह नहीं कि उसके अनुसार क्या होना चाहिए. – अल्बर्ट आइंस्टीन || A man should look for what is, and not for what he thinks should be. – Albert Einstein

मुखर होना आसान है जब आप पूर्ण सत्य बोलने की प्रतीक्षा नहीं करते. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || To be outspoken is easy when you do not wait to speak the complete truth. – Rabindranath Tagore

बर्तन में रखा पानी चमकता है; समुद्र का पानी अस्पष्ट होता है. लघु सत्य स्पष्ठ शब्दों से बताया जा सकता है, महान सत्य मौन रहता है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || The water in a vessel is sparkling; the water in Read more ›

उच्चतम शिक्षा वो है जो हमें सिर्फ जानकारी ही नहीं देती बल्कि हमारे जीवन को समस्त अस्तित्व के साथ सद्भाव में लाती है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || The highest education is that which does not merely give us information but Read more ›

अकेले फूल को कई काँटों से इर्ष्या करने की ज़रुरत नहीं होती. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || The flower which is single need not envy the thorns that are numerous. – Rabindranath Tagore

तितली महीने नहीं क्षण गिनती है, और उसके पास पर्याप्त समय होता है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || The butterfly counts not months but moments, and has time enough. – Rabindranath Tagore

जब मैं खुद पर हँसता हूँ तो मेरे ऊपर से मेरा बोझ कम हो जाता है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || The burden of the self is lightened when I laugh at myself. – Rabindranath Tagore

संगीत दो आत्माओं के बीच के अनंत को भरता है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Music fills the infinite between two souls. – Rabindranath Tagore

केवल प्रेम ही वास्तविकता है, ये महज एक भावना नहीं है. यह एक परम सत्य है जो सृजन के ह्रदय में वास करता है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Love is the only reality and it is not a mere sentiment. Read more ›

प्रेम अधिकार का दावा नहीं करता, बल्कि स्वतंत्रता देता है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Love does not claim possession, but gives freedom. – Rabindranath Tagore

जीवन हमें दिया गया है, हम इसे देकर कमाते हैं. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Life is given to us, we earn it by giving it. – Rabindranath Tagore

हम ये प्रार्थना ना करें कि हमारे ऊपर खतरे न आयें, बल्कि ये करें कि हम उनका सामना करने में निडर रहे. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Let us not pray to be sheltered from dangers but to be fearless when Read more ›

कला में व्यक्ति खुद को उजागर करता है कलाकृति को नहीं. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || In Art, man reveals himself and not his objects. – Rabindranath Tagore

यदि आप सभी गलतियों के लिए दरवाजे बंद कर देंगे तो सच बाहर रह जायेगा. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || If you shut the door to all errors, truth will be shut out. – Rabindranath Tagore

मैं सोया और स्वप्न देखा कि जीवन आनंद है. मैं जागा और देखा कि जीवन सेवा है. मैंने सेवा की और पाया कि सेवा आनंद है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || I slept and dreamt that life was joy. I awoke Read more ›

मैं एक आशावादी होने का अपना ही संस्करण बन गया हूँ. यदि मैं एक दरवाजे से नहीं जा पाता तो दूसरे से जाऊंगा- या एक नया दरवाजा बनाऊंगा. वर्तमान चाहे जितना भी अंधकारमय हो कुछ शानदार सामने आएगा. – रबिन्द्रनाथ Read more ›

वो जो अच्छाई करने में बहुत ज्यादा व्यस्त है, स्वयं अच्छा होने के लिए समय नहीं निकाल पाता. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || He who is too busy doing good finds no time to be good. – Rabindranath Tagore

मंदिर की गंभीर उदासी से बाहर भागकर बच्चे धूल में बैठते हैं, भगवान् उन्हें खेलता देखते हैं और पुजारी को भूल जाते हैं. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || From the solemn gloom of the temple children run out to sit in Read more ›

आस्था वो पक्षी है जो सुबह अँधेरा होने पर भी उजाले को महसूस करती है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Faith is the bird that feels the light when the dawn is still dark. – Rabindranath Tagore

तथ्य कई हैं पर सत्य एक है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Facts are many, but the truth is one. – Rabindranath Tagore

जो कुछ हमारा है वो हम तक आता है; यदि हम उसे ग्रहण करने की क्षमता रखते हैं. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Everything comes to us that belongs to us if we create the capacity to receive it. – Rabindranath Read more ›

हर एक कठिनाई जिससे आप मुंह मोड़ लेते हैं,एक भूत बन कर आपकी नीद में बाधा डालेगी. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Every difficulty slurred over will be a ghost to disturb your repose later on. – Rabindranath Tagore

हर बच्चा इसी सन्देश के साथ आता है कि भगवान अभी तक मनुष्यों से हतोत्साहित नहीं हुआ है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Every child comes with the message that God is not yet discouraged of man. – Rabindranath Tagore

मिटटी के बंधन से मुक्ति पेड़ के लिए आज़ादी नहीं है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Emancipation from the bondage of the soil is no freedom for the tree. – Rabindranath Tagore

किसी बच्चे की शिक्षा अपने ज्ञान तक सीमित मत रखिये, क्योंकि वह किसी और समय में पैदा हुआ है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Don’t limit a child to your own learning, for he was born in another time. – Rabindranath Read more ›

मित्रता की गहराई परिचय की लम्बाई पर निर्भर नहीं करती. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Depth of friendship does not depend on length of acquaintance. – Rabindranath Tagore

मौत प्रकाश को ख़त्म करना नहीं है; ये सिर्फ दीपक को बुझाना है क्योंकि सुबह हो गयी है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Death is not extinguishing the light; it is only putting out the lamp because the dawn has come. Read more ›

पंखुडियां तोड़ कर आप फूल की खूबसूरती नहीं इकठ्ठा करते. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || By plucking her petals, you do not gather the beauty of the flower. – Rabindranath Tagore

कट्टरता सच को उन हाथों में सुरक्षित रखने की कोशिश करती है जो उसे मारना चाहते हैं. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Bigotry tries to keep truth safe in its hand with a grip that kills it. – Rabindranath Tagore

आयु सोचती है, जवानी करती है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || Age considers; youth ventures. – Rabindranath Tagore

सिर्फ तर्क करने वाला दिमाग एक ऐसे चाक़ू की तरह है जिसमे सिर्फ ब्लेड है. यह इसका प्रयोग करने वाले के हाथ से खून निकाल देता है. – रबिन्द्रनाथ टैगोर || A mind all logic is like a knife all Read more ›

सच्ची सफलता और आनंद का सबसे बड़ा रहस्य यह है: वह पुरुष या स्त्री जो बदले में कुछ नहीं मांगता, पूर्ण रूप से निस्स्वार्थ व्यक्ति, सबसे सफल है. – स्वामी विवेकानंद || The great secret of true success, of true Read more ›

जो अग्नि हमें गर्मी देती है , हमें नष्ट भी कर सकती है ; यह अग्नि का दोष नहीं है . – स्वामी विवेकानंद || The fire that warms us can also consume us; it is not the fault of Read more ›

शक्ति जीवन है , निर्बलता मृत्यु है . विस्तार जीवन है , संकुचन मृत्यु है . प्रेम जीवन है , द्वेष मृत्यु है . – स्वामी विवेकानंद || Strength is Life, Weakness is Death.Expansion is Life, Contraction is Death.Love is Read more ›

हम जो बोते हैं वो काटते हैं . हम स्वयं अपने भाग्य के विधाता हैं . हवा बह रही है ; वो जहाज जिनके पाल खुले हैं , इससे टकराते हैं , और अपनी दिशा में आगे बढ़ते हैं , Read more ›

शारीरिक , बौद्धिक और आध्यात्मिक रूप से जो कुछ भी कमजोर बनता है – , उसे ज़हर की तरह त्याग दो . – स्वामी विवेकानंद || Anything that makes weak – physically, intellectually and spiritually, reject it as poison. – Read more ›

कुछ मत पूछो , बदले में कुछ मत मांगो . जो देना है वो दो ; वो तुम तक वापस आएगा , पर उसके बारे में अभी मत सोचो . – स्वामी विवेकानंद || Ask nothing; want nothing in return. Read more ›

जो तुम सोचते हो वो हो जाओगे . यदि तुम खुद को कमजोर सोचते हो , तुम कमजोर हो जाओगे ; अगर खुद को ताकतवर सोचते हो , तुम ताकतवर हो जाओगे . – स्वामी विवेकानंद || Whatever you think Read more ›

मस्तिष्क की शक्तियां सूर्य की किरणों के समान हैं . जब वो केन्द्रित होती हैं ; चमक उठती हैं . – स्वामी विवेकानंद || The powers of the mind are like the rays of the sun when they are concentrated Read more ›

आकांक्षा , अज्ञानता , और असमानता – यह बंधन की त्रिमूर्तियां हैं . – स्वामी विवेकानंद || Desire, ignorance, and inequality—this is the trinity of bondage. – Swami Vivekananda

यह भगवान से प्रेम का बंधन वास्तव में ऐसा है जो आत्मा को बांधता नहीं है बल्कि प्रभावी ढंग से उसके सारे बंधन तोड़ देता है . – स्वामी विवेकानंद || This attachment of Love to God is indeed one Read more ›

कुछ सच्चे , इमानदार और उर्जावान पुरुष और महिलाएं ; जितना कोई भीड़ एक सदी में कर सकती है उससे अधिक एक वर्ष में कर सकते हैं . – स्वामी विवेकानंद || A few heart-whole, sincere, and energetic men and Read more ›

जब लोग तुम्हे गाली दें तो तुम उन्हें आशीर्वाद दो . सोचो , तुम्हारे झूठे दंभ को बाहर निकालकर वो तुम्हारी कितनी मदद कर रहे हैं . – स्वामी विवेकानंद || Bless people when they revile you. Think how much Read more ›

श्री रामकृष्ण कहा करते थे ,” जब तक मैं जीवित हूँ , तब तक मैं सीखता हूँ ”. वह व्यक्ति या वह समाज जिसके पास सीखने को कुछ नहीं है वह पहले से ही मौत के जबड़े में है . Read more ›

अधिक से अधिक भोले, कम ज्ञानी और बच्चों की तरह बनिए. जीवन को मजे के रूप में लीजिये – क्योंकि वास्तविकता में यही जीवन है. – ओशो || Become more and more innocent, less knowledgeable and more childlike. Take life Read more ›

जीवन कोई त्रासदी नहीं है; ये एक हास्य है. जीवित रहने का मतलब है हास्य का बोध होना. – ओशो || Life is not a tragedy, it is a comedy. To be alive means to have a sense of humor. Read more ›